What is On Page SEO in Hindi ! On Page SEO Checklist

अगर आप SEO Practices को ध्यान से देखेंगे तो आप पाएंगे कि Off Page SEO की गतिविधिया काफी टाइम से लगभग एक जैसे ही है | Link Building के साथ-साथ Keyword Research और Content Research करीब-करीब समान ही है | लेकिन On Page SEO में कुछ न कुछ बढ़ता ही रहता है | आज हम What is On Page SEO in Hindi पर एक गहरी चर्चा करने वाले है |

सर्च इंजन में जो भी AI (Artificial Intelligence) और ML (Machine Learning) के नये  features जोड़े जाते है, उन सबके वजह से On Page SEO की गतिविधिया भी बढती है | उदाहरण के लिए Schema Data, अभी कुछ साल पहले तक Schema Data, हमारे On Page SEO का हिस्सा नहीं होता था, लेकिन अब ये अपने आप में एक बड़ी चीज के रूप में काम करती है | अगर आपको अपनी ऑनलाइन ब्रांडिंग चाहिए तो आपको अपनी वेबसाइट में Schema Data को जोड़ना ही पड़ेगा |

इसलिए आज इस आर्टिकल में हम What is On Page SEO in Hindi की Checklist पर बात करने वाले है | सबसे पहले हम On Page SEO के बारे में कुछ Basic जानकारी के बारे में जान लेते है |

What is On Page SEO in Hindi :

What is On Page SEO in hindi
What is On Page SEO in hindi

On Page SEO वो होता है जिसका कण्ट्रोल आपके या आपके डेवलपर के पास में हो| अगर आप अपनी वेबसाइट स्वयं बनाते है या किसी से बनवाते है तो जो चीजे आपको सामने से दिखाई दे रही है जिसका पूरा कण्ट्रोल आप दोनों के हाथ में है, उसे ही हम सीधे शब्दो में On Page SEO कहते है |

इसे हम कुछ उदाहरणों से समझने का प्रयास करते है-

+ सबसे पहला Unique Article. जब भी आप अपनी वेबसाइट में कोई भी आर्टिकल लिखते है तो वो आपको दिखाई देता है जैसे, उसके अन्दर Keyword प्लेसमेंट कैसे करनी है, उसका Title कैसे लिखते है और उसमे मौजूद Images का SEO कैसे करते है, उसका URL कैसे डालना है, इन्ही सब चीजो पर काम करना On Page SEO कहलाता है |

अगर आप अपनी पोस्ट का On Page SEO अच्छे से करते है तो आपकी Blogpost सर्च इंजन में जल्दी रैंक करेगी| अभी मैंने इसे बहुत ही सरल तरीके से बताया है इसकी पूरी On Page SEO checklist हम आगे देखेंगे |

Advanced On Page SEO हम क्यों करते है ?

Advanced On Page SEO हम अपने यूजर को प्राप्त करने के लिए करते है या अपनी साईट पर ट्रैफिक लाने लिए हम On Page SEO का प्रयोग करते है | अब यूजर को अपनी वेबसाइट पर लाने की इस प्रक्रिया में सबसे पहले-

यूजर अपनी Quarry को किसी भी सर्च इंजन या गूगल पर सर्च करता है और उसके बाद यूजर ने जो भी चीज सर्च किया है, सर्च इंजन उससे सम्बंधित उसे कुछ साइट्स की लिस्ट दिखाता है| अब उस लिस्ट में से यूजर किसी एक साईट के लिंक पर क्लिक करता है जहाँ पर उसे लगता है कि जो भी Quarry उसने सर्च की है, उसके बारे में वो साईट उसे संतुष्टिपूर्ण जानकारी देगी |

लिंक पर क्लिक करने के बाद यूजर उस साईट पर लैंड कर जाता है, जहाँ पर उसे कुछ कंटेंट मिलता है | अब इसके पश्चात् अगर वो यूजर उस साईट के कंटेंट से संतुष्ट होता है तो वो उस साईट के अलग-अलग pages को भी देखेगा या फिर जो उसे चाहिए था वो उसे इस पेज पर मिल जाता है तो हो सकता है वो उसके दुसरे Pages को ना भी देखे लेकिन अगर उसे वो कंटेंट लाभदायक लगता है तो वो उस कंटेंट को अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकता है |

इस पुरे प्रोसेस में अगर यूजर हमारे कंटेंट और हमारी वेबसाइट के साथ Satisfied हो जाता है तो वो यूजर हमारा Acquire हो जाता है | इसी चीज को आपको ध्यान में रखना है कि आपको User Satisfaction की तरफ अपना ध्यान केन्द्रित करना है | अगर यूजर को इस पुरे प्रोसेस में किसी भी स्टेप में कही पर भी कोई दिक्कत आती है तो वो आपके कंटेंट से Dissatisfy रहेगा | इसका परिणाम ये होगा कि वो दोबारा आपकी साईट पर नहीं आएगा और इससे Google आपकी वेबसाइट टॉप पोजीशन पर रैंक नहीं करेगा और आपकी वेबसाइट की Down Grading शुरू हो जाएगी |

इसलिए आपके लिए What is On Page SEO in Hindi को समझना बहुत इम्पोर्टेन्ट है | अब हम Step By Step इस On Page SEO Checklist को समझेंगे और देखेंगे कि कैसे हम अपनी वेबसाइट को On Page SEO की मदद से टॉप पोजीशन पर रैंक करवा सकते है –

1. Crawling Checkup

सर्च इंजन के Bots वेबसाइट को visit करते है, जिसे Crawling कहा जाता है | इस Crawling प्रोसेस से ही सर्च इंजन को ये पता लगता है कि आपकी वेबसाइट में क्या कंटेंट है, ये वेबसाइट कितनी इम्पोर्टेन्ट है और किस टाइप के Users को ये वेबसाइट दिखानी चाहिए !

Crawling, SEO (Search Engine Optimization) का पहला कदम है | अगर आपकी वेबसाइट ठीक से क्रॉल नहीं हो रही है तो वो ना तो इंडेक्स होगी और ना ही सर्च रिजल्ट्स में वो रैंक हो पायेगी | हो सकता ही कि आपकी वेबसाइट के कुछ पेज ठीक से crawl हो रहे हो, जिससे शायद आपको ये लग रहा होगा कि आपकी वेबसाइट में कोई Error नहीं है लेकिन हो सकता है कि आपके कई इम्पोर्टेन्ट पेजेज crawl ना हो पा रहे हो |

इन सारी समस्याओ को आप Crawling Checkup के बाद भी ठीक कर सकते है | Crawling Checkup में आप अपनी Robots.txt और htaccess फाइल को चेक करते है कि कही कोई URL या फोल्डर ब्लाक तो नहीं है, जो आपके इम्पोर्टेन्ट पेजेज को ब्लाक कर रहा हो |

Google Search Console आपकोCrawling Errors सेसम्बंधित Issues को बताता है, जहाँ से आप अपनी वेबसाइट के लगभग सभी प्रकार के Errors का पता लगा सकते है | Crawling Checkup आपको What is On Page SEO in hindi के बारे में जानने में मदद  करेगा |

2. Indexing Checkup

Search Engine आपकी वेबसाइट के Pages को Crawl करने के बाद उन्हें Index करते है | अगर आपने कोई वेबसाइट बनाई है और उसके अंदर आप पोस्ट डालते है तो ये तय है कि सर्च इंजन आपके पेजेज को इंडेक्स जरुर करेगा |

कोई भी सर्च इंजन कभी भी किसी वेबसाइट के सारे Pages को इंडेक्स नहीं करता है | एक SEO के तौर पर आपका काम ये है कि आप ज्यादा से ज्यादा अपनी वेबसाइट के Useful पेजेज को सर्च इंजन में इंडेक्स करवा सके |

इस Indexing Checkup में हम देखते है कि हमारी वेबसाइट के कौन से पेज सर्च इंजन में इंडेक्स हो चुके है, कौन से पेज इंडेक्स नहीं हुए है और वे क्यों इंडेक्स नहीं हुए है, ताकि इनके Indexing के रस्ते में आ रही बाधाओ को सुलझा कर इन्हें भी इंडेक्स करवाया जा सके | ऐसा करके भी आप अपने On Page SEO में सुधार कर सकते है |

3. Sitemap Checkup

ज्यादातर लोग इस स्टेप को भूल जाते है लेकिन ये एक Interesting पॉइंट है | Sitemap, Crawling और Indexing दोनों की समस्याओ को Creat भी कर सकता है और इन दोनों की समस्या को ये दूर भी कर सकता है |

अगर आपका कोई पेज है जिसे आपके किसी और पेज से Internal Link और External Link नहीं मिली हुई है और साथ ही उसे Sitemap में भी जगह नहीं मिली है तो ऐसे में ना तो वो पेज क्रॉल होगा और ना ही वो इंडेक्स होगा| इसलिए आप Crawling और Indexing Checkup के बाद अपने Sitemap को चेक करके देखिये |

इससे पहले आप निम्लिखित स्टेप्स को जरुर चेक करे –

  • सबसे पहले तो ये चेक करे कि आपका Sitemap बना है है या नहीं,
  • क्या आपका Sitemap, Accessible है या नहीं,
  • क्या आपके Sitemap को Google Search Console में सबमिट किया गया है या नहीं, और
  • क्या आपके Sitemap में आपके सभी इम्पोर्टेन्ट Pages के Links है या नहीं

अगर आपकी वेबसाइट में Sitemap को लेकर इनमे से कोई भी Issue दिखाई दे रहा है तो पहले आप उसे ठीक करे क्यूंकि Sitemap, SEO का एक बहुत इम्पोर्टेन्ट पार्ट होता है, इसमे आपकी पूरी वेबसाइट का माप होता है |

4. Content

What is On Page SEO in Hindi का मुख्य तत्व तो कंटेंट ही होता है | इस कंटेंट ही है जिसके लिए आप, हम और सब इतनी तकलीफे उठाते है |

SEO’s का भाषाओ पर फोकस करना बहुत जरुरी होता है क्यूंकि आपको अपने क्लाइंट से भी बात करनी होती है, आपको रिपोर्ट्स भी बनानी होती है, अपने Writers को समझाना भी होता है और कई बार छोटा-मोटा कंटेंट खुद भी लिखना होता है, इसलिए अगर आपका खुद की भाषा पर नियंत्रण नहीं है और आपकी Vocabulary (Grammar) अच्छी नहीं है तो आपको इन उपर बताये गए सभी कार्यो में परेशानी हो सकती है और अगर को आप एक से ज्यादा भाषाएँ आती है तो आपका जानकारी लेने और देने, दोनों का स्कोप बढ़ जाता है |

अगर आपके कंटेंट में Spelling और Grammar में दिक्कत होगी तो आपका कंटेंट रैंक नहीं करेगा क्यूंकि गूगल कोई अन्तर्यामी नहीं है | अगर आपके कंटेंट में Spelling Mistakes है और Grammar गलत है तो इसका कोई अर्थ नहीं निकल पायेगा जिससे गूगल को भी ये नहीं पत्ता लग पायेगा कि आपका कंटेंट आखिर किस बारे में है | इसलिए आपको अपने कंटेंट की भाषा पर विशेष ध्यान देना चाहिए और अपने आपको इसमें परफेक्ट बनाना चाहिए |

आप अपने कंटेंट को Analysis करिए | अपने कंटेंट के अन्दर अपने Keyword की Percentage देखने की कोई जरुरत नहीं है और अपने कंटेंट में अपने Keywords को ठूंसने की भी कोई आवश्यकता नहीं है | Naturally एक विजिटर के तरह अपने कंटेंट को पढ़कर देखिये और ये सुनिश्चित करे कि आपके Keywords नैचुरली तरीके से प्रयोग हो रहे हो, उनको ज़बरदस्ती ठूसा ना गया हो |

साथ ही अपने पेज के पहले Paragraph में अपने Main Keyword का प्रयोग जरुर करे क्यूंकि ये एक मजबूत संकेत होता है कि आपका पेज किस बारे में है या उसके अन्दर क्या जानकारी डाली गयी है |

5. Canonical Checkup

Canonical Tags सर्च इंजन को बताते है कि जिन दो पेजेज में एक जैसा कंटेंट दिखाई दे रहा है, उनमे से आप सिर्फ एक पेज को ही रैंक करना चाहते है | इस स्टेप पर आप विशेष ध्यान दे क्यूंकि अगर आप इसको सही से Implement नहीं करते हो तो हो सकता है कि Google आपके जिन दो पेजेज में एक जैसा कंटेंट दिखाई दे रहा है, उनमे से उस पेज को रैंक कर दे जिसे आप रैंक नहीं करवाना चाहते है और जिसे आप रैंक करवाना चाहते है उसे शायद Google रैंक ना करे !

What is On Page SEO in hindi
What is On Page SEO in hindi

Canonical Tags का SEO फील्ड में अहम रोल है इसलिए आप अपने पेजेज में अच्छे से Canonical Tags को सेट करे | लगभग सभी  SEO Plugins आपको ये सुविधा फ्री में प्रदान करते है |

6. URL Checkup

URL आपके पेज का Address होता है इसलिए अगर किसी जगह का Address ही गलत तरीके से लिखा हुआ होगा तो वो किसी को भी नहीं मिलेगा | आपके URL में अव्यवस्थित रूप से कोई भी Symbol, Character और Numbers नहीं होने चाहिए |

Semrush और Ahref जैसे टूल्स URLs को Analyze करने का आप्शन देते है लेकिन अगर आपकी 200-300 पेजेज की एक छोटी वेबसाइट है तो आप M.S. Excel का प्रयोग करके भी अपनी वेबसाइट जो Analyze कर सकते है|

Googler’s के मुताबिक URLs की आगे भी इम्पोर्टेंस ऐसी ही बनी रहेगी| अब अगर आने वाले समय में ऐसा कोई तन्त्र आ जाता है जिससे बिना URL के भी ये निश्चित किया जा सकता है कि जो इनफार्मेशन किसी पेज पर मौजूद है वो एकदम सही और जांची हुई है और उसके साथ किसी प्रकार की कोई छेड़-छाड़ नहीं की गयी है तो उससे URL की महवत्ता कम हो सकती है | इसलिए आप On Page SEO को बरकरार रखने के लिए आप अपना फोकस इस पर जरुर बनाये रखे |

7. Meta Data Checkup

Meta Data टैग्स के रूप में पेज में Header Section में डाले जाते है और ये सर्च इंजन को आपके पेज की इम्पोर्टेन्ट इनफार्मेशन देते है | Meta Data Checkup में निम्नलिखित चीजे आती है –

A. Meta Title – ये आपके पेज की टाइटलकी खबर सर्च इंजन को देते है |

B. Meta Description –  ये आपके द्वारा किसी पेज में डाले गए Description की खबर सर्च इंजन को देते है |

C. Meta Robots Tag – ये Robots Tag सर्च इंजन को आपके किसी पेज की जरुरी सूचना देते है, जैसे – Index, No-Index, Archive और Snippets आदि |

D. OG Tags –

OG Tags यानि कि Open Graph Tags. ये आपके किसी पेज को फेसबुक पर शेयर करते वक्त आपके उस पेज के Preview को कण्ट्रोल  करते है | अगर कोई यूजर आपके पेज को फेसबुक पर शेयर कर रहा है तो आप चाहेंगे कि आपके पेज का सही Preview, पेज का Title और Description पेज के उपर जाए ना कि कोई भी फालतू का टेक्स्ट | इसलिए आपको अपने OG Tags को कण्ट्रोल करना चाहिए |

E. Twitter Cards –  Twitter Cards, OG Tags की तरह ही वही काम करते है लेकिन ये सिर्फ आपके पेज को Twitter पर कैसा दिखाया जायेगा, इसको कण्ट्रोल करता है|

इन सबको नियंत्रित करने के लिए आपको अपने सारे पेजेज के डाटा को चेक करना होगा और देखना होगा कि ये सारे फंक्शन वहां पर अच्छे से काम कर रहे हो | इन्हें चेक करने के लिए आप काफी सारे टूल्स की मदद ले सकते है,  जैसे – Semrush, Ahref, Screaming Frog आदि |इन टूल्स पर भी आपको What is On Page SEO in hindi के बारे मे जानने को मिल जायेगा, इसलिए आप इन्हें भी जरुर चेक करे |

8. Header Tags

आप अपने पेज में H1, H2, H3 जैसी सभी Headings को अच्छे से Implement करिए | कोशिश करे कि आप अपने किसी भी पेज में एक से ज्यादा H1 हैडिंग का इस्तेमाल ना करे | अपने पेज की H1 हैडिंग में आपका Main Keyword या Focus Keyword होना चाहिए |

देखा जाये तो Header Tags प्रत्यक्ष रूप से रैंकिंग फैक्टर नहीं होते है लेकिन Headers किसी पेज के कंटेंट को सही से फॉर्मेट करने में मदद करते है, जिससे पेज पढने और समझने में आसान हो जाता है, जिसका मतलब है कि इससे User Experience बढ़ जाता है और एक अच्छा User Experience एक रैंकिंग के रूप में जाना जाता है | इसलिए अगर हो सके तो आप Header Tag को हर एक पेज में चेक कीजिये, इससे आपके On Page SEO के स्कोर को बढने में मदद मिलेगी |

9. Mobile Friendliness Test

Mobile Friendliness कोई एक ऑप्शनल चीज नहीं है कि बल्कि आपके लिए इसे अपनी वेबसाइट में लागु करना Mandatory या जरुरी है | अधिकतर Websites को गूगल स्मार्ट फ़ोन Bot से क्रॉल करता है | इसलिए आपकी वेबसाइट का जो लेआउट मोबाइल पर दिखाई देगा वैसी ही आपकी वेबसाइट इंडेक्स होगी |

What is On Page SEO in hindi
What is On Page SEO in hindi

आपके द्वारा आपकी वेबसाइट पर लगाये गए सुन्दर-सुन्दर Animations जो डेस्कटॉप पर दिखाई देते है, उनका आपकी वेबसाइट के On Page SEO से कोई लेना-देना नहीं होता है | अगर आपके पेज का कोई Text, Menu, Header और Footer मोबाइल पर दिखाई नहीं देता है, तो गूगल उसे इंडेक्स करके रैंक भी नहीं करेगा क्यूंकि वो सर्च इंजन को दिखाई ही नहीं दे रहा है |

इसलिए ये जरुरी है कि आप अपने सभी पेजेज का Mobile Friendliness टेस्ट करे | इसे टेस्ट करने के लिए Google का खुद का एक टूल है, आप उसकी सहायता से अपने पेजेज को टेस्ट करे और आपको वहां पर जो भी Issues मिलते है, उन्हें Properly फिक्स करिए |

इस टेस्ट के आलावा आप ये भी याद रखिये कि Mobile और Desktop Version के कंटेंट में कोई खास अंतर नहीं होना चाहिए | आप अपने मोबाइल Viewers को अलग प्रकार का कंटेंट नहीं दिखा सकते है लेकिन आपका डिजाईन अलग जरुर हो सकता है जो कि निश्चित रूप से अलग ही होगा| साथ ही Mobile Website की स्पीड भी अच्छी रखिए जिससे आपको What is On Page SEO in Hindi के बारे में और विस्तार से देखने को मिलेगा |

10. Images Checkup

आप अपनी वेबसाइट में यूज़ की हुई इमेजेज को चेक कीजिए और ये सुनिश्चित कीजिये कि क्या आपकी Images Indexable है, क्या आपकी Images तेज़ी से डाउनलोड होने के लिए  Image Optimize है और क्या आपकी इमेजेज सही फॉर्मेट में है !

इसके आलावा आप अपनी Images के Alt Attribute पर भी अपना फोकस करे और इसे ठीक करे | आपके पेज में इमेज किस Text के पास दिखाई दे रही है, ये भी देखिये क्यूंकि ये भी एक रैंकिंग फैक्टर हो सकता है | आपको अपने पेजेज में इमेज को उस जगह पर प्रयोग करना चाहिए, जहाँ उस इमेज से सम्बंधित टेक्स्ट मौजूद हो |

आपकी Images का आपकी वेबसाइट के On Page SEO में बहुत बड़ा स्थान होता है |इसलिए ये जरुरी है कि आप अपनी इमेजेज को अच्छे से SEO optimize कीजिए क्यूंकि अपनी वेबसाइट के What is On Page SEO in hindi को अच्छे से मेन्टेन करने के लिए हमे किसी भी स्टेप को नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए |

11. Internal Linking

अब जैसा कि हम सब जानते है कि Internal Linking भी हमारे पेज का ही हिस्सा होती है इसलिए ये भी हमारे On Page SEO का पार्ट होती है |

Internal Links का कोई फिक्स नंबर नहीं होता है कि एक पेज में आठ या दस Internal Links होनी चाहिए लेकिन इसके सन्दर्भ में हमे कुछ खास पॉइंट्स पर जरुर ध्यान देना चाहिए –

A. एक पेज में एक ही Anchor Text को यूज़ करके दो अलग-अलग पेजेज को लिंक मत दीजिये | ये Search Engines को कंफ्यूज करता है इसलिए ऐसा आप ना करे |

B. एक ही पेज से किसी अन्य पेज को दो बार लिंक मत कीजिये |

C. अपने पेज में इस्तेमाल किये गए Anchor Text को Linking URL से मिलता-जुलता रखिये|

D. अपने पेजे में Links को Naturally तरीके से यूज़ कीजिये यानी जहाँ जरुरत हो वही पर Linking करे |

अपने पेज में Internal Linking करते समय उपर बताये गए सभी पॉइंट्स को ध्यान में रखे क्यूंकि इससे आप ही का फायदा होगा | अगर आप अपने पेज में Links को ज़बरदस्ती ठूंसने की कोशिश करेंगे तो इससे आपकी वेबसाइट की अथॉरिटी कम होने लगेगी जिससे हो सकता है कि वो अपनी रैंकिंग को खो दे |

12. Schema Data

Schema Data आपके वेबपेज  को Search Engines को समझने में आसान बनाता है | अगर सर्च इंजन आपके पेज को बेहतर तरीके से समझेंगे तो वे बेहतर तरीके से रैंक भी करेगे | एक ही पेज में आप एक से ज्यादा टाइप्स के Schema Data को जोड़ सकते है लेकिन इसके लिए बस इतनी सी शर्त है कि पेज की जो भी जानकारी आप Schema Data में जोड़ रहे है वो जानकारी आपके Users को भी दिखाई देनी चाहिए |

Add Schema Data In your Website

On Page SEO के अन्दर Schema Data का भी अलग महत्त्व होता है इसलिए आप अपने पेजेज में Schema डाटा का जरुर उपयोग करे |

13. Page Speed

आपके Pages की स्पीड भी एक बहुत बड़ा Ranking Factor होती है | अगस्त, 2021 से गूगल Page Speed को रैंकिंग फैक्टर में जोड़ने लगा है इसलिए ये निश्चित करे कि आपके पेज फ़ास्ट परफॉरमेंस के लिए Optimize हो |

बहुत सारे लोग अपनी वेबसाइट की स्पीड को बढ़ाने के चक्कर में इतने व्यस्त हो जाते है कि वे बाकी के स्टेप्स को तो भूल ही जाते है | आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि Page की Speed सिर्फ एक Ranking Factor होता है और इसके आलावा और भी Ranking Factor होते है जिनके उपर भी हमे अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहिए|

निष्कर्ष :

दोस्तों उपर बताये गए सभी स्टेप्स आपकी वेबसाइट से बेहतर तरीके से Ranking और Indexing के लिए तैयार कर सकते है | एक बात को आप हमेशा स्मरण रखिये कि SEO एक Practical कार्य है और इसके अन्दर Theory कम और Practice ज्यादा है इसलिए आप उपर बताये गरे 13 Points में से 8 Points को भी एक दम ढंग से फॉलो करते है तो आपको निसंदेह शानदार परिणाम मिलेंगे |

लेकिन आप कोशिश ये करे कि आप अपनी वेबसाइट में इन सभी पॉइंट्स का प्रयोग करे क्यूंकि इससे आपका On Page SEO काफी हद तक मेन्टेन हो जायेगा | इधर-उधर हाथ-पैर मरने से अच्छा है कि आप एक चीज को बार-बार करे क्यूंकि इससे आप उस फील्ड में एक्सपर्ट हो जायेंगे|

आप अपने पेज के Title और Description पर विशेष ध्यान दे क्यूंकि सबसे पहले यूजर को आपके पेज का ये पार्ट सर्च रिजल्ट्स में दिखाई देता है और यूजर इसी को देखकर आपके पेज के लिंक पर क्लिक करता है, इसलिए आप अपने पेज के Title और Description को आकर्षक बनाईये |

SEO की पूरी दुनिया में सबसे जरुरी आपका कंटेंट होता है इसलिए जितना हो सके आप अपने पेज के कंटेंट के यूनिक और लाभदायक बनाने का प्रयास करे | इसी के आधार पर आपका यूजर आपकी वेबसाइट पर बार-बार आना पसंद करेगा | साथ ही अपने कंटेंट की Grammar को भी ठीक रखिए ताकि आपके यूजर के लिए आपके कंटेंट का अर्थ ना बदले |

➥ उम्मीद है आपको ये कंटेंट Helpful लगा होगा और अगर आपको इस कंटेंट में दी गयी जानकारी महत्वपूर्ण लगे तो इसे जरूरतमंद लोगो को जरुर शेयर करे और अगर आपको इसके सन्दर्भ में कोई टिप्पणी या सुझाव देना है तो आप हमसे Comment Section के माध्यम से जुड़ सकते है |

FAQ :

  1. क्या On Page SEO से हमारी वेबसाइट में कोई प्रभाव पड़ता है ?

    On Page SEO हमारी वेबसाइट के लिए एक बहुत ही उपयोगी बिंदु है | On Page SEO के अंतर्गत आने वाले सभी जरुरी स्टेप्स का अनुसरण करके हम अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को Search Engines में एक अच्छी रैंकिंग दिला सकते है | सबसे अच्छी बात ये है कि हमारी वेबसाइट के On Page SEO का पूरा नियंत्रण हमारे ही हाथ में होता है | गूगल हमारी वेबसाइट को कुछ विशेष लक्षणों के आधार पर रैंक करता है जिनमे से ज्यादातर स्टेप्स हम On Page SEO के अन्दर पुरे कर लेते है इसलिए ये स्पष्ट है कि अपनी वेबसाइट को एक बेहतरीन रैंकिंग प्रदान करने के लिए हमे उसका On Page SEO अच्छे से Optimize करना होगा |

  2. क्या On Page SEO हिंदी और इंग्लिश दोनों तरह की वेबसाइट के लिए जरुरी है ?

    On Page SEO के नज़रिए से इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपकी वेबसाइट हिंदी में है या इग्लिश में | आपकी वेबसाइट चाहे हिंदी में हो या इंग्लिश में सभी तरह की websites के लिए On Page SEO लाभकारी होता है | Google सभी भाषाओ पर आधारित Websites को उनकी गुणवत्ता के आधार पर रैंक करता ही और वेबसाइट की गुणवत्ता को बढ़ाने में On Page SEO का एक बड़ा रोल होता है |

  3. क्या हमे अपनी वेबसाइट के On Page SEO को Optimize करने के लिए इसके सभी स्टेप्स को फॉलो करना अनिवार्य है ?

    देखिये, On Page SEO एक किर्यात्मक कार्य है और इसके अन्दर Theory कम और अभ्यास  ज्यादा है इसलिए अगर आप इसके सभी स्टेप्स में से कुछ जरुरी स्टेप्स को भी एक दम ढंग से फॉलो करते है तो आपको निसंदेह शानदार परिणाम मिलेंगे |
    लेकिन आप कोशिश ये करे कि आप अपनी वेबसाइट में On Page SEO को जितना संभव हो उतना मेन्टेन रखे| इधर-उधर हाथ-पैर मरने से अच्छा है कि आप एक चीज को बार-बार करे क्यूंकि इससे आप उस फील्ड में एक्सपर्ट हो जायेंगे|

Categories SEO

नमस्कार दोस्तों, मैं Mahakal-Blog का फाउंडर हु | ब्लॉग्गिंग करना मेरा प्रोफेशन है और मेरी रूचि, नई-नई चीजो के बारे में जानकारी अर्जित करना और उसे ब्लॉग्गिंग के मध्यम से लोगो के साथ शेयर करने में है | इस ब्लॉग को बनाने के पीछे हमारा मकसद यह है कि हम आपको ब्लॉग्गिंग और डिजिटल मार्केटिंग से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी एकदम सरल भाषा हिंदी में उपलब्ध करवा सके !

Share For Support:

Leave a Comment