What is Google Sandbox in SEO?

अगर आप भी ब्लॉग्गिंग और SEO की खबर रखने वाले बंदे है तो आपने भी किसी ना किसी विडियो, ब्लॉग या आर्टिकल में Google Sandbox का नाम तो जरुर सुना होगा. लगभग हर SEOs इस नाम से वाकिफ है क्यूंकि जब आपकी वेबसाइट गूगल में रैंक नहीं करती है तो इन्टरनेट पर इसका सबसे बड़े कारणों में से एक करण Google Sandbox ही बताया जाता है. यही कारण है कि यह नाम इतना ज्यादा पोपुलर है.

What is Google Sandbox in SEO? Full explanation in Hindi

इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि What is Google Sandbox in SEO और इसी के साथ-साथ हम इससे रिलेटेड कुछ और भी महत्वपूर्ण  सवालों पर बात करेंगे, जिससे आप ये बेहतर तरीके से समझ पाएंगे कि यह यह क्या है और SEO पर इसका क्या असर पड़ता है और आप अपनी वेबसाइट को Google Sandbox के लिए कैसे ऑप्टिमाइज़ कर सकते है?

What is Google Sandbox in SEO?

Google Sandbox एक गूगल द्वारा नकारा जाने वाले ranking मीट्रिक है जो नई Websites की सर्च इंजन में Stable रैंक पर रोक लगता है. Google Sandbox नई websites को टॉप Positions पर रैंक करने से रोकता है ताकि Users को टॉप रिजल्ट्स में उन्ही websites के आर्टिकल्स मिले जो गूगल द्वारा Verified और Spam फ्री है.

आपने देखा होगा कि जब आपकी वेबसाइट एक दम नई होती है तो आपकी पोस्ट Google में कभी 1st पेज पर रैंक करती है तो कभी 2nd पेज पर या कभी 3rd पेज पर और कभी आपकी Blogpost गायब भी हो जाती है | SEOs का मानना है कि यह सब Google Sandbox के कारण ही घटित होता है लेकिन गूगल ये दावा करता है कि उनके पास Google Sandbox नाम की कोई अल्गोरिथम Exist यही नहीं करती है.

What is Google Sandbox in SEO? Full explanation in Hindi
Image by Ahref

इसे गूगल का एक नई वेबसाइट को आजमाइश का समय भी कहा जाता है क्यूंकि इसी मीट्रिक की वजह से गूगल किसी वेबसाइट की अथॉरिटी और वो वेबसाइट कैसा कंटेंट Produce कर रही है यानी कंटेंट की क्वालिटी ये सब चेक करता है उसे उसकी गुणवत्ता के हिसाब से ranking प्रदान की जा सके. अगर आप अपनी एक नई वेबसाइट पर सब कुछ सभी भी करते है तो भी आपकी वेबसाइट  Google Sandbox की वजह से सर्च इंजन में एक स्टेबल रैंक नहीं पा सकती है.

Google Sandbox: A Brief History

पहले के समय में अनेक SEOs और Bloggers ने ये चीज नोटिस की कि जब वे अपनी वेबसाइट को लांच करते है और उस पर आर्टिकल पोस्ट करते है तो कुछ महीनो तक वे गूगल में एक निश्चित रैंक अर्जित नहीं कर पाते थे. वे अपनी वेबसाइट पर अपनी पूरी SEO की Strategy Use करते थे लेकिन फिर भी वे अपनी वेबसाइट को Google Sandbox के असर से नहीं बचा पाते थे.

लेकिन उनके आर्टिकल्स दुसरे सर्च engines जैसे Yahoo और Bing पर रैंक करते थे लेकिन गूगल में Sandbox के कारण उनको कुछ समय तक स्थिर रैंक नहीं मिल पाती थी. हालाँकि websites गूगल में इंडेक्स जरुर हो जाती थी लेकिन उनमे Low Competition Keywords इस्तेमाल करने पर भी वे अपेक्षित रैंक नहीं हासिल कर पाती थी. Google sandbox का किसी वेबसाइट पर कुछ हफ्तों से लेकिन कुछ महीनो तक असर रह सकता है. इसका कोई फिक्स टाइम नहीं है.

गूगल इस Google Sandbox मीट्रिक के जरिये किसी वेबसाइट की महत्वत्ता और गुणवत्ता अच्छे से जान पाता है. इस टाइम में गूगल को किसी नई वेबसाइट को और ज्यादा परखने तथा Spam से लड़ने का मौका मिल जाता है. इसके पीछे गूगल का motive है कि कही एक spammy और Low quality वेबसाइट गूगल में जल्दी से Visibility प्राप्त न कर ले.

 इसी के साथ बहुत सारे SEOs का दृढ़ता से मानना है कि गूगल अपनी इस अल्गोरिथम के जरिये किसी वेबसाइट पर Users का अनुभव तथा Engagement कैसा है, उस वेबसाइट का Dwell Time और Bounce Rate कैसा हैये सब चेक करता हैतथा आलावा और भी अनेक मैट्रिक्स को गूगल इस Sandbox Time में Analyze करता है ताकि इस प्रोसेस के बाद किसी वेबसाइट को उसकी Importance के हिसाब से रैंक प्रदान की जा सके.

Does Google disagree with Sandbox?

गूगल के Webmaster Trends Analyst – John Mueller कहते है कि उनके पास Google Sandbox नाम की कोई भी अल्गोरिथम नही है और ना ही Google Sandbox जैसा कोई मीट्रिक वे Use करते है. लेकिन उनके पास ऐसी और बहुत सारी अल्गोरिथ्म्स है जो इस Google sandbox की तरह दिखाई देती है और वे कुछ इसी प्रकार से काम करती है.

वे कहते है कि उनके लिए किसी नई वेबसाइट को गूगल में एक स्थिर रैंक देना अत्यंत दुर्लभ कार्य है, क्यूंकि शुरुआत में उन्हें ये नहीं पता होता है कि कोई वेबसाइट किस केटेगरी के अंतर्गत आती है और वह कितना क्वालिटी कंटेंट Produce करती है. इलिए शुरुआत में वे अपने कुछ Metrics को इस्तेमाल करके एक नई वेबसाइट पर Users के व्यवहार को Notice करते है कि Visitors कमेंट्स कर रहे है या नहीं, कमेंट्स पॉजिटिव है या नेगेटिव, पोस्ट को शेयर कर रहे है या नहीं और वे इसके बाकि के Internal Pages को विजिट कर रहे है या नहीं आदि.

ऐसा गूगल तब तक करता है जब तक उसे ये कांफोर्म न हो जाये कि कोई वेबसाइट किस Purpose से बनाई गयी है और वह किस टॉपिक से सम्बंधित आर्टिकल्स को कवर करती है.

How does Google Sandbox affect SEO?

Google Sandbox  का SEO पर सबसे बड़ा प्रभाव ये पड़ता है कि शुरुआत के कुछ महीनो तक आपकी वेबसाइट को लगातार समान ट्रैफिक नहीं मिलता है क्यूंकि आपकी रैंक कभी किसी पेज पर होती है और कभी किसी पेज पर. इसलिए जब तक एक नई वेबसाइट गूगल की नजरो में विश्वसनीयता हासिल नहीं कर लेती है तब तक वो सर्च इंजन में अच्छे से रैंक नहीं करती है. और किस वेबसाइट पर Google Sandbox का असर कितने समय तक रहेगा, ये उस वेबसाइट के कम्पटीशन और केटेगरी पर भी निर्भर करता है.  

SEO Solution for Sandbox Effect and reduce the Sandbox Period

हाँ, ये संभव है कि आप कुछ चिज्जो का ध्यान रखकर Google Sandbox के प्रभाव को कम कर सकते है. अगर आपकी वेबसाइट पर लगातार हर रोज 500 या हज़ार जा ट्रैफिक आता  है और अगर आप अपनी इंडस्ट्री की websites से कुछ High Quality Backlinks भी प्राप्त कर लेते हो और अगर कुछ सोशल माडिया प्लेटफॉर्म्स पर आप लगातार active रहते हो, तो गूगल की अल्गोरिथ्म्स आपको सीरियस लेने लगेगी और आपकी ranking स्टेबल होती आ जाएगी.

ऐसा देखा भी गया है कि कुछ नई websites जल्दी ही अपने Keywords पर टॉप में रैंक करने लग जाती है लेकिन इसके लिए वे गूगल से ट्रस्ट Gain करती है. इसके आलावा अगर आप अपनी वेबसाइट पर अपनी Niche से रिलेटेड किसी influencer का इंटरव्यू पब्लिश करते हो तो भी आपको ज्यादा लीड्स देखने को मिल सकती है और इसके आलावा आप अपने ब्लॉग पर लगातार Valuable आर्टिकल्स पब्लिश करते रहिये, जिससे हो सकता है कि आपकी वेबसाइट इस पीरियड से जल्दी बाहर आ जाये.

ऐसी और भी कुछ चीजे है जो को एक नई वेबसाइट को टॉप पोजीशन पर रैंक करने से रोकती है –

What stops a new website from Ranking

Google किसी को रैंक करने के लिए उसका EEAT Score जरुर चेक करता है जिसका अर्थ है – Experience Expertise Authoritativeness  Trustworthiness. पहले ये सिर्फ EAT के नाम से जाना जाता था लेकिन अभी 2022 के अंत में गूगल ने इसमें Experience का एक E और ऐड कर दिया है. इसलिए आप अपनी वेबसाइट के EEAT Score को Increase करने पर ध्यान जरुर दे. इसके आलावा कुछ और भी पॉइंट्स है जो एक वेबसाइट की ranking पर रोक लगाते है –

Lack of content

अगर आपकी वेबसाइट पर आपकी Niche और topic से रिलेटेड बहुत कम मात्रा में कंटेंट अवेलेबल है तो गूगल को आपकी वेबसाइट की केटेगरी और relevancy समझने में दिक्कत आती है जिसके चलते वो आपकी वेबसाइट को एक स्थिर ranking प्रदान नहीं कर पाता है. इसलिए जरुरी है कि आप अपनी वेबसाइट पर ज्यादा मात्रा में अच्छी क्वालिटी का कंटेंट प्रस्तुत करे.

Lack of user signals

अगर आपके आर्टिकल्स पर Users की प्रतिक्रियाए कम देखने को मिलती है जैसे कमेंट्स करना, Bounce Rate, Dwell time, तो भी गूगल आपकी वेबसाइट को अथॉरिटी प्रदान नहीं करता है. इसलिए आप अपनी वेबसाइट पर ऐसे develop करे कि Users उस पर Interact करे और users आपकी वेबसाइट पर बार-बार आये.

Lack of quality backlinks

 जैसा कि हम सब जानते है Backlinks टॉप 3 में से एक ranking factor के रूप में जाना जाता है. इसलिए अगर आपकी वेबसाइट पर अच्छी backlinks नहीं है तो गूगल तब तक आपकी को बेहतर रैंक कैसे प्रदान कर सकता है जब तक उसके पास दूसरी हाई क्वालिटी Backlinks वाली websites मौजूद है. लेकिन इसका अर्थ ये बिलकुल भी नहीं है कि आप एक ही दिन में बहुत सारी Backlinks बना डालो, इससे आपको गूगल की तरफ से उल्टा Penalty का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए आप Natural तरीके से ही Backlinks बनाये.

Industry and competition

आपकी ranking आपकी वेबसाइट की Industry और Competition पर भी निर्भर करती है. अगर आपकी वेबसाइट ऐसे टॉपिक को कवर करती है जो Medical तथा Legal Activities से रिलेटेड है, जिसमे एक छोटी सी गलती से किसी के उपर बहुत ज्यादा नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है तो गूगल ऐसी websites को जल्दी सर्च रिजल्ट्स में Show नहीं करता है, तब तक जब तक कि वो गूगल से trust और अथॉरिटी Gain नहीं कर लेती है.

How long can a new website stay in Google Sandbox?

किसी वेबसाइट पर Google sandbox का असर कुछ हफ्तों से लेकर कुछ महीनो तक रह सकता है और यह पूरी तरह से उस वेबसाइट की इंडस्ट्री पर निर्भर करता है लेकिन अब यह दावे के साथ नहीं कहा जा सकता है कि Google Sandbox अभी भी Exist करता है या नहीं और यह पहले की तरह काम करता है या नहीं.

Google अब पहले से काफी ज्यादा स्मार्ट और Evolve हो चूका है और गूगल के पास ऐसी बहुत सारी अल्गोरिथ्म्स जिससे वो किसी वेबसाइट को Backlinks, Content तथा Quality के आधार पर अलग कर सकता है. हाल ही में गूगल ने 19 Ranking Signals को पब्लिश किया है जिनका वो किसी भी वेबसाइट को रैंक करने के लिए इस्तेमाल करते है इसलिए आप भी उन सभी ranking signals को जरुर स्टडी करे, जिन्हें हमने अपने ब्लॉग पर पब्लिश किया हुआ है.

Hello friends, I am the founder of Mahakal-Blog. Blogging is my profession and my interest is in getting information about new things and sharing it with people through blogging. Our motive behind creating this blog is that we can provide you important information related to blogging and digital marketing in very simple language Hindi.

Share For Support:

1 thought on “What is Google Sandbox in SEO?”

Leave a Comment