What is Google BERT Algorithm and how to use Google BERT in Hindi

दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम Google Ranking Signal BERT के बारे में बात करने वाले है कि What is Google BERT Algorithm. हर SEO अपनी वेबसाइट को गूगल में No. 1 पोजीशन पर रेंक करना चाहता है और अगर आपको ये पता हो कि गूगल किन-किन चीजो को देखकर किसी वेबसाइट को रैंक करता है तो ऐसे में आपका काम बहुत ज्यादा आसान हो जायेगा.

Google Search Engine websites को कैसे रैंक करता है, ये Secret किसी को नहीं पता है. हमारे जैसे SEO’s को तो छोड़ दीजिये, SEO Expert और SEO Guru भी नहीं जानते है कि आखिर गूगल किसी वेबसाइट को कैसे रैंक करता है. अब ऐसा नहीं कि गूगल की ये websites को रैंक करने की ये Algorithm बिलकुल ही एक अद्भुत सीक्रेट है.

Page Rank Algorithm

अब गूगल का जो पहला फार्मूला था, वो था Backlinks को Analysis करके किसी पेज की इम्पोर्टेंस को समझकर उसकी रैंक को निकालना. इसी Algorithm को Page Rank Algorithm कहा जाता है. इसे अल्गोरिथम को Page Rank इसलिए नाम दिया गया क्यूंकि इसे गूगल के फाउंडर Larry Page ने बनाया था.

1998 में गूगल ने Page Rank Algorithm को दुनिया के सामने रखा गया था लेकिन तब से लेकर आज तक गूगल ने फिर कभी Google Ranking Signals को खुलकर नहीं बताया है. अब Ranking Signals के लिए हम इधर-उधार से थोड़ी बहुत इनफार्मेशन जुटाते रहते है लेकिन कभी गूगल ने हमे एक Definite List नहीं दी, जिन्हें हम अपनी वेबसाइट में Implement कर सके.

19 Google Ranking Signals

लेकिन हाल ही में गूगल ने अपने Ranking Signals की एक List पब्लिश की है जिसमे 19 Google Ranking Signals को गूगल ने List किया है. गूगल द्वारा बताये गए ये 19 Ranking Signals कुछ इस प्रकार है –

  1. BERT
  2. CRISIS INFORMATION SYSTEMS (CIS)
  3. DEDUPLICATION SYSTEMS
  4. EXACT MATCH DOMAIN SYSTEMS
  5. FRESHNESS SYSTEMS
  6. HELPFUL CONTENT SYSTEMS
  7. LINK ANALYSIS SYSTEMS
  8. LOCAL NEWS SYSTEMS
  9. MUM
  10. NEURAL MATCHING SYSTEMS
  11. ORIGINAL CONTENT SYSTEMS
  12. REMOVAL BASED DEMOTION SYSTEMS
  13. PAGE EXPERIENCE SYSTEMS
  14. PASSAGE RANKING SYSTEMS
  15. PRODUCT REVIEWS SYSTEMS
  16. RANK BRAIN
  17. RELIABLE INFORMATION SYSTEMS
  18. SITE DIVERSITY SYSTEMS
  19. SPAM DETECTION SYSTEMS

ये एक alphabetically list है, ऐसा नहीं है कि इस लिस्ट में जो फर्स्ट Ranking Signal है वो सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट है और लास्ट वाला Ranking Signal सबसे कम इम्पोर्टेन्ट है. अब इस लिस्ट को एक बार ध्यान से पढ़िए और अपने आप से पूछिए कि आप इन 19 Google Ranking Signals में से कितने Ranking Signals को जानते है और उनके Meaning को समझते है और कितने Ranking Signals को आपने अपनी वेबसाइट में Implement किया है.

गूगल ने इन  19 Ranking Signals को आपकी वेबसाइट को रैंक करने में कही न कही use जरुर किया है और अगर आपको इन 19 Google Ranking Signals में से अधिकतर Words का Meaning भी नहीं पता है या आप समझ नहीं पा रहे कि इनके लिए अपनी वेबसाइट को कैसे ऑप्टिमाइज़ करना है तो आप समझ सकते है कि आपकी वेबसाइट को इंडेक्स या रैंक करने की असली जड़ यही 19 Google Ranking Signals ही है.

हम इन 19 Google Ranking Signals को बारी-बारी से अपनी इस वेबसाइट पर Detail से Explain करेंगे और आपको बतायेंगे कि ये 19 Ranking Signals क्या है और इन्हें आप कैसे अपनी वेबसाइट पर Implement कर सकते है. हर एक Ranking Signal के उपर एक अलग आर्टिकल आएगा जिसमे सिर्फ उसी Ranking Signal के बारे में बात की जाएगी, जिससे आप इन 19 Google Ranking Signals को बेहतर तरीके से समझ पाएंगे.

हम हर एक Ranking Signal को एक अलग आर्टिकल में discuss इसलिए करेंगे क्यूंकि हर एक Ranking Signal का काम करने का तरीका अलग होता है और उसका Purpose अलग होता है और ऐसे में आपके लिए इन Ranking Signals को समझना आसान रहेगा और हमारे लिए आपको समझाना भी आसान रहेगा.

हम इन 19 Google Ranking Signals को एक अलग Category में रखेंगे जिन्हें आप निचे सिये गए लिंक से Access कर सकते है और इन्हें आप हमारे ब्लॉग पर उपर Menu section पर भी पा सकते है.
 19 Google Ranking Signals

अब हम अपने टॉपिक पर वापिस आते है और इस आर्टिकल में हम इन 19 Google Ranking Signals में से पहले Ranking Signal BERT के बारे में जानेंगे. इस आर्टिकल में हम BERT Ranking Signal से जुड़े इन सवालों को समझने का प्रयास करेंगे –

What is Google BERT Algorithm and how to use Google BERT?
  1. BERT Algorithm क्या है?
  2. BERT Algorithm की History क्या है?
  3. BERT Algorithm कैसे काम करती है?
  4. BERT Algorithm का SEO के उपर क्या असर पड़ता है?
  5. BERT Ranking Signal को Achieve करने के लिए वेबसाइट में क्या Changes करने चाहिए?

चलिए अब हम BERT से जुड़े इन मुख्य सवालों को एक-एक करके समझने की कोशिश करते है –

What is Google BERT Algorithm

BERT Algorithm गूगल का Mention किया गया पहला Ranking signal है जिसका अर्थ है – Bidirectional Encoder Representations from Transformers. BERT Algorithm एक Natural Language प्रोसेसिंग मॉडल है जिसे AI Language टीम ने बनाया था.

History of BERT Algorithm

BERT को 2018 में Open Source भी कर दिया गया था यानी इसे कोई भी Use कर सकता है. वैसे 2018 कोई 100-200  साल पहले की बात नहीं है लेकिन AI (Artificial Intelligence) की फील्ड में ये बहुत ज्यादा Time Difference है. 2018 में जब गूगल ने BERT को लांच किया था तो ये एक क्रन्तिकारी मॉडल था.

How Does BERT Algorithm Work?

BERT Algorithm कैसे काम करती है?

BERT Natural Language Processing Model, काफी सारे मुश्किल Task को एक साथ हैंडल कर सकता है. जैसे –

Sentiment Analysis ये टेक्स्ट का Sentiment Analysis कर सकता है यानी किसी Movie का Review पॉजिटिव है या नेगेटिव ये BERT आसानी से पता लगा सकता है. Computers Movies नहीं देखते है और उसके Review को नहीं समझ सकते है लेकिन BERT Review को Analysis करके ये समझ सकता है कि ये Review मूवी के लिए पॉजिटिव है या Negative है.

Chatbots to Answer Questions – BERT, Chat Bots के Questions को Answer कर सकता है.

Creating Summary Out Of Articles – BERT एक लम्बे टेक्स्ट की Summry बना सकता है.

Text Prediction BERT टेक्स्ट Predict कर सकता है. अगर आप कोई word टाइप कर रहे है तो कीबोर्ड बता सकता है कि आप आगे क्या टाइप करने वाले है. ये काम भी BERT कर सकता है.

Writing Articles – BERT किसी टॉपिक पर एक आर्टिकल लिख सकता है.

Detecting Bad Comments – BERT बुरे कमेंट्स को डिटेक्ट करने में सक्षम है.

Speech to Text – BERT किसी की बोली गयी स्पीच को टेक्स्ट में कन्वर्ट कर सकता है.

ये सारे काम BERT Algorithm से पहले भी अलग-अलग अल्गोरिथम से किये जाते थे लेकिन BERT Algorithm ने इन Tasks की Accuracy को बढ़ा दिया है और इनकी Quality को काफी ज्यादा Improve कर दिया है.

Importance of BERT Algorithm

BERT Algorithm की Importance क्या है ये आपको इसके नाम से ही समझ में आ जाएगी –

Bidirectional

सबसे पहले आता है Bidirectional, BERT Algorithm से पहले सारे Language मॉडल या तो Left से right Language को प्रोसेस करते थे या Right to Left को प्रोसेस करते थे लेकिन BERT दोनों Directions में टेक्स्ट को Analysis कर सकता है.

Transformer

दूसरा word है Encoder लेकिन Encoder को समझने से पहले हम Transformer को समझते है. Transformers AI की दुनिया में एक ऐसे Mechanism को बोलते है जो दो Words के बिच के Relation को समझने का काम करता है. जैसे अजय तोमर, अब अजय एक हिंदी भाषा का एक word है जिसका अर्थ है – जिसे कभी जीता ना जा सके और तोमर एक Surname है.

अब अगर एक नार्मल कंप्यूटर सिस्टम को अगर अजय तोमर का Meaning समझने के लिए कहा जाये तो शायद वो इसका अर्थ समझे कि सारे तोमर अजय है यानि सभी तोमर को जीता नहीं जा सकता है क्यूंकि Language को समझना Tricky होता है इसलिए Transformers को Use किया जाता है. जो Words के बीच के Meanings को समझते है और systems को बताते है कि अजय तोमर किसी एक person का नाम है ना कि सारे Tomars का अजय होना है.

Encoder

अब इन Transformers में दो पार्ट होते है – Encoder और Decoder और अगर हम इन दोनों वर्ड्स को सिंपल भाषा में समझे तो Encoder का अर्थ है Input और Decoder का अर्थ है – Output. Encoder दिए हुए टेक्स्ट को Analysis करने का काम करता है और Decoder इस Analysis के आधार पर results देता है.

लेकिन BERT में गूगल सिर्फ Encoder को use करता है और Decoder को गूगल BERT में use नहीं करता है क्यूंकि BERT Algorithm का काम सिर्फ टेक्स्ट को समझना है, जो वर्ड्स दिए हुए है उनके बीच के Relation को समझना है.

How BERT Affects SEO?

BERT Algorithm का SEO के उपर क्या असर पड़ता है?

How BERT Affects SEO?

SEO’s, गूगल BERT को चार तरीको से Use कर सकते है –

Understanding Query

नार्मल गूगल Users गूगल के Search bar में जिस Query या जिन Keywords को टाइप करते है, उन्हें BERT बेहतर तरीके से समझ सकता है और इस नयी तरह की Understanding के आधार पर नये Pages को सर्च रिजल्ट में दिखा सकता है. एक Successful Blogger बनने के लिए आपके लिए इन्हें समझना बहुत जरुरी है.

Understanding Emotions

आपके पेज के मूड को समझने का काम Google BERT कर सकता है. आपके पेज का कंटेंट पॉजिटिव है या नेगेटिव है, किसी कंटेंट में किसी खास तरह के लोगो को टारगेट किया जा रहा है तो इस तरह के जो Difficult Tasks होते है, इन्हें BERT आसानी से कर सकता है.

Understanding Quality

Questions और Answers को समझने का काम BERT बड़े अच्छे तरीके से कर सकता है. अगर आप किसी खास Question या Answer के लिए अपने पेज को रैंक करना चाहते है, तो क्या आपका पेज उस Question का सही Answer दे रहा है, ये चीज BERT के जरिये गूगल कर सकता है.

Understanding Entity

अगर आपके पेज के कंटेंट में किसी Person, Place, Country, Brand, Date या Company का जिक्र है, तो उसे Google BERT आसानी से समझ सकता है. इन्ही सभी Features के कारण ही BERT Algorithm एक Powerful Algorithm है.

अब हमारा इस Google Ranking Signal का अंतिम सवाल आता है कि SEO’s और Content Writers इस BERT Algorithm के लिए अपने Pages को कैसे रैंक कर सकते है यानी ये Ranking Signal आपकी वेबसाइट को कैसे बेहतर तरीके से रैंक करे –

How to Achieve BERT in Website?

अपनी वेबसाइट में BERT Algorithm को Achieve करने के लिए आप दो स्टेप्स को फॉलो कर सकते है –

#1 Stop Believing in Concept of Stop Words

सबसे पहले आप STOP Words के Concept में भरोसा करना बंद कर दीजिये. जो पुराने SEO’s होंगे या जो Out Dated मटेरियल को स्टडी कर रहे होंगे वे STOP WORDS के कांसेप्ट को भली-भांति जानते होंगे. हालाँकि हमने भी आपको कई आर्टिकल्स में ये बताया था कि आप अपने टाइटल में STOP WORDS का use ना करे लेकिन अब BERT के हिसाब से वे सभी बाते पुरानी हो चुकी है और आप STOP WORDS का इस्तेमाल अपने Titles में कर सकते है.

पहले ये माना जाता था कि गूगल Stop Words जैसे – to, the, from, a , for  जैसे शब्दों को गूगल नज़रंदाज़ कर देता है क्यूंकि इन वर्ड्स का पना कोई Meaning नहीं होता है और काफी टाइम पहले इस पर भरोसा करना सही भी था लेकिन BERT Algorithm के आने के बाद परिस्थिति बदल गयी है. जो अभी तक Stop Words होते थे वे अब Go Words हो चुके है क्यूंकि यही वर्ड्स BERT को पुरे Sentence का Meaning बताने का काम करते है.

इसलिए चाहे Title हो, Description हो या Content हो, आपको Stop Words करे बारे में नहीं सोचना है और Stop Words जैसी किसी भी Concept पर आपको भरोसा नहीं करना है.

#2 Don’t Use Keywords Unnaturally

अपने कंटेंट मे आपको Keywords को Unnatural, Unintentional और Forced तरीके से इस्तेमाल नहीं करना है क्यूंकि BERT Algorithm आपके टेक्स्ट को Analysis करके उसके मूड को समझ सकता है. अगर आप Keywords को Unnatural तरीके से Use करेंगे तो BERT आपको पकड़ लेगा और आपके पेज की रैंक पर इसका बुरा असर पड़ेगा.

इसलिए अपने पेज के कंटेंट को Natural रखिये. आप Keywords को इस्तेमाल जरुर करिए लेकिन natural तरीके से इस्तेमाल करिए. इससे आपके पेज का User Experience भी अच्छा होता है.

Last Words

तो दोस्तों ये थे Google BERT Ranking Signal का एक सम्पूर्ण विवरण, जिसे पढ़कर आपको जरुर बहुत कुछ नया सिखने को मिला होगा साथ ही आप अच्छे तरीके से जान पाए होंगे कि What is Google BERT Algorithm और ये कैसे काम करती है.

इसके बाद आप बाकि के Ranking Signals को भी जरुर पढ़े जिनके बारे में मैंने आपको उपर बताया था क्यूंकि इन सभी 19 Google Ranking Signals के बारे में जानकर ही आप अपनी वेबसाइट जो एक बेहतर रैंक प्रदान कर सकते हो.

अगर आपका इस Ranking Signal के बारे में कोई सवाल या सुझाव है तो उसे हमे जरुर बताये और अगर आपको ये इनफार्मेशन हेल्पफुल लगी तो इसे शेयर जरुर करे. Your Feedback is useful for us.

Hello friends, I am the founder of Mahakal-Blog. Blogging is my profession and my interest is in getting information about new things and sharing it with people through blogging. Our motive behind creating this blog is that we can provide you important information related to blogging and digital marketing in very simple language Hindi.

Share For Support:

Leave a Comment