How to write SEO friendly article in hindi | With new updated tricks

दोस्तों, जाने-अनजाने में आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के साथ ऐसी गलती कर बैठते है जिसकी वजह से आप अपनी वेबसाइट की रैंकिंग को खो देते है | इस आर्टिकल में मैं आपको ऐसी ही गलतिया बताने वाला हु जिन्हें अगर आप नहीं करते है तो आप अपनी वेबसाइट की रैंकिंग को काफी हद तक Improve कर सकते है | साथ ही हम देखेंगे how to write SEO friendly article जिससे आप अपने किसी भी आर्टिकल को search results में टॉप में रैंक करवा सकते हो|

इसी के साथ हम आपको UFO based आर्टिकल कैसे लिखते है ये भी बतायेंगे | UFO यानि User Friendly Optimization. आप सभी ने Search Engine Optimization (SEO) के बारे में जरुर सुना होगा लेकिन ये एक गलत वर्ड है क्यूंकि इसका अर्थ है कि वो Optimization जो आप search engine के लिए करते है लेकिन हाल ही हुई Google की Helpful Content Update में गूगल खुद बोल रहा है कि आप अपने आर्टिकल को search engine के लिए नहीं बल्कि User के लिए Optimize करो |

इस आर्टिकल में मैं आपको बहुत सारी Tips & Tricks बताने वाला हु जिसकी मदद से आप अपने यूजर के लिए अपने कंटेंट को अच्छे से ऑप्टिमाइज़ कर पाएंगे | बहुत सारी Tips & Tricks का मतलब मैं आपको कोई Shortcut या Tool नहीं बताने वाला हु बल्कि मैं आपको 100 %  Ethical और Practical चीजे बताने वाला हु जिनसे आपको जरुर Better Results मिलेंगे |

Biggest Mistake Of Beginner Blogger:

 जब किसी Beginner को पता चलता है कि हम ब्लॉग्गिंग की मदद से महीने का लाखो रुपये कमा सकते है तो वो भी इस Opportunity का फायदा उठाने के बारे में सोचने लगता है | वो इसके बारे में You Tube पर search करता है और कुछ Pro Bloggers की Videos को देखकर वो बहुत ज्यादा Inspire हो जाता है, जिसमे उसे बताया जाता है कि आप ब्लॉग्गिंग की हेल्प से लाखो Earn कर सकते है और अगर देखा जाये तो इसमें कुछ गलत है भी नहीं !

गलती वहां से शुरू होती है जब वो ही बन्दा इस विडियो के निचे और स्क्रॉल करता है और उसे कुछ ऐसे Videos दिखाई देते है जहाँ पर उसे बताया जाता है कि आप अपनी वेबसाइट से बिना आर्टिकल लिखे ही पैसे कमा सकते है | अब वो बन्दा अपनी वेबसाइट सेटअप करने के लिए Hosting और Domain खरीदता है और उस पर WordPress इनस्टॉल करता है | अब इसके बाद वो उन Videos को खोजता है जो ये दावा करते है कि आपको अपनी वेबसाइट पर आर्टिकल लिखने की भी जरुरत नहीं है |

वे Videos उसे बताते है कि आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर AI Generated आर्टिकल का इस्तेमाल करिए और आपकी वेबसाइट गूगल में रैंक करनी लगेगी और जिससे आपको अच्छा-खासा Ad revenue मिलेगा | अब यहाँ पर जो बन्दा आर्टिकल लिख सकता था या जो अपनी Potential को Use कर सकता था, अब वो Shortcut use करने लगता है | यहाँ पर ये चीज गलत है क्यूंकि 2022 में Google की और से ऐसे-ऐसे अपडेट आ रहे है कि आप ऐसी shortcut Techniques का use करके search engine में लम्बे समय तक नहीं बने रह सकते हो |

2016 तक ये सारी चीजे अच्छे से काम करती थी लेकिन अब Competition और Search Engine की Responsibility बहुत ज्यादा बढ़ गयी है | जरा सोचिये, आप अगर गूगल पर अपनी Quarry को search करते हो और आपके सामने कुछ ऐसे results आ जाये जिनके अन्दर फालतू की चीजे लिखी हुई है यानि जो Readable ही नहीं है तो आप या लोग Google को use क्यों करेंगे?

इसलिए Google अपनी quality बनाये रखने के लिए search results को पेश करने में अपनी Secret Algorithm का प्रयोग करता है और अगर आप उस Algorithm को समझ जाते हो तो अपनी वेबसाइट का बड़े बेहतर ढंग से SEO यानि UFO कर सकते हो |

आज के समय में जहाँ पर Blogging का नाम आता है वहां पर सबसे कठिन आर्टिकल लिखना होता है और अगर आप अपनी वेबसाइट में AI Generated या Spin किया हुआ कंटेंट Use करते हो तो search engine में आपकी वेबसाइट ऐसे गायब हो जाएगी कि आपकी वेबसाइट search results में पुरे 100 Pages तक नहीं मिलेगी |

चलिए अब बिना किसी देरी के देखते है कि आप कैसे SEO Friendly Article लिख सकते है –

How to Write SEO Friendly Article in Hindi:

मैं आपको मुख्यतः तीन steps में सिखाऊंगा कि आप कैसे एक SEO friendly article लिख सकते है –

  1. Competitor Article Analysis
  2. On Page SEO For The Article
  3. Advance Techniques For Better Traffic

इन तीनो Parts में जो आपको सबसे Best पार्ट लगने वाला है वो है Advance Techniques For Better Traffic

जिसके बारे में हम आगे डिटेल्ड में चर्चा करेंगे | लेकिन उपर वाले दोनों पार्ट्स में भी आप बहुत कुछ नया सीखेंगे | अब हम इन तीनो पॉइंट्स को बारीकी से देखते है –

1. Competitor Article Analysis:

इसमें आपको अपने Competitor का आर्टिकल Analysis करने को बोला जा रहा है | आप जब किसी Niche या Topic अपना ब्लॉग बनाते है तो आपको ये पता लग जाता है कि आपकी Industry में कौन सी वेबसाइट आपसे अच्छा रैंक कर रही ही और आपको किस वेबसाइट को Out Rank करना है |

A. इसमें आप दो Chrome Extensions का प्रयोग कर सकते हो जिसमे पहली Extension है Detailed SEO. इस Chrome Extension से आप अपने Competitor के आर्टिकल की Weakness का पता लगा सकते हो | ये Extension आपको आपके Competitor के आर्टिकल के बारे में काफी कुछ बता देती है जैसे उसका – Title, Description, Keywords, URL और Canonical Page आदि | 

इस Extension की मदद से आप ये पता लगा सकते है कि आपके Competitor ने अपने आर्टिकल में क्या-क्या Mis किया है और आप उसे अपने आर्टिकल में use करके अपने आर्टिकल को और ज्यादा स्ट्रोंग बना सकते है |

B. इसी तरह कि एक और Chrome Extension है जिसका नाम है – SEO Quake. इस Extension की मदद से आप अपने Competitor  के Keywords की Density तथा और भी बहुत कुछ पता लगा सकते हो | इस Extension से आप अपने Competitor  के Parameters, Backlinks, Internal-External Links और Keyword Density का पता सकते हो |

SEO quake chrome extension Image
SEO quake chrome extension Image

इसमें इसका सबसे बेस्ट आप्शन Keyword Density है जिससे आप अपने Competitor के सभी छोटे-बड़े Keywords का पता सकते हो और उसे अपने आर्टिकल में Use करके एक SEO friendly article  तैयार कर सकते हो |

2. On Page SEO For The Article:

Finding primary keywords related to seed keywords:

इसमें सबसे पहले आपको अपना एक Main Keyword निकाल लेना है जिसके भी बारे मे आप अपना आर्टिकल लिखना चाहते हो | उसके बाद अब आपको अपने उस Main Keyword से रिलेटेड Keywords को Find करना है जिसे आप अनेक तरीको से Find कर सकते हो |

सबसे पहले आप अपने Main Keyword  को गूगल पर search कीजिए इसके बाद search results में आपको बिच में भी FAQ type Keywords मिल जाते है इनमे से आप अपने According कुछ Keywords को निकाल सकते हो | इसके आलावा आप उसी पेज को स्क्रॉल करके सबसे निचे आ जाईये | यहाँ पर भी आपको Google अनेको Keywords Suggest करता है और ये वे Keywords होते है जिन्हें लोग आपके Main Keyword के साथ search करते है |

 keyword suggestion by Google search result

इसलिए आप इनमे से अपने Seed Keyword से रिलेटेड कुछ Keywords को Find कर सकते है | दूसरा आप Keywordtool.io की मदद ले सकते हो, रिलेटेड Keywords निकालने के लिए | ये टूल आपको आपके Seed Keyword से रिलेटेड सैकड़ो Keywords दिखा देता है जिन्हें आप manually analysis करके अपने आर्टिकल में use कर सकते हो |

Post Title:                                                       

हमेशा अपनी पोस्ट के टाइटल को H1 यानि Heading 1 में ही रखे और एक आर्टिकल में केवल एक ही H1 रखे | अपने पेज पर एक से ज्यादा H1 का प्रयोग ना करे | अपने आर्टिकल के टाइटल में आपका Main Keyword जरुर होना चाहिए | इसके आलावा आप अपने आर्टिकल में एक दो Primary Keyword भी डाल सकते हो जिससे आपका टाइटल Catchy हो |

अपने टाइटल में हमेशा Long Tail Keywords का ही प्रयोग करे क्यूंकि Long Tail Keywords पर रैंक करना Short Tail Keywords से ज्यादा आसान होता है | और अगर आप Beginner है तो आप अपना Seed Keyword या Main Keyword भी Long Tail ही रखे |

Article Permalink, URL Or Slug:

कुछ Bloggers अपने Title को ही अपने आर्टिकल का Permalink लिंक बना देते है, लेकिन आपको ऐसा नहीं करना है | Backlinko के अनुसार, जो कि एक बहुत बड़ी SEO Agency है, उनका कहना है कि जब हम अपने आर्टिकल्स में Short URLs लेते है तो गूगल उसे समझने में Confuse नहीं होता है और उसे जल्दी रैंक करता है |

इसलिए कोशिश करे कि आप अपने आर्टिकल का Short URL ही रखे और अगर आपके URL में आपका Keyword फिट बैठता है तो उसे भी जरुर use करे |

SEO Friendly Article Heading Structure:

अपने आर्टिकल मे Heading Structure, User Friendly रखे | जैसे अपने आर्टिकल में 1 H1 रखे, उसके बाद जो आपकी Main Headings है उन्हें आप H2 के अन्दर रखे, अगर इनके अन्दर भी कोई Sub Heading है तो उसे H3 में रखे | इस तरह से आप अपने आर्टिकल में Heading Structure अच्छा रखे |

दूसरा आपको अपनी Headings में अपने Main Keyword या Seed Keyword को ज़बरदस्ती नहीं ठूसना है | इससे आपका आर्टिकल SEO Friendly Article नहीं कहलाएगा |  आपको ऐसे बहुत सारे लोग मिल जायेंगे जो आपको बोलेंगे कि आप अपने Keyword को H1, H2 और H3 में Use करे, Paragraphs में Use करे यानी अपने आर्टिकल में अपने Keyword की बोछार कर दो लेकिन आपको ऐसा बिलकुल नहीं करना है |

Google अब पहले से बहुत ज्यादा Advance हो चूका है इसलिए वो आपके आर्टिकल को Crawl करके ये समझ सकता है कि आपका आर्टिकल किस बारे में है | आपको हमेशा अपने आर्टिकल की Readability Improve करनी है | जहाँ पर बहुत ज्यादा जरुरत हो और जहाँ Meaningful हो सिर्फ वही पर Keyword को Use करे |

Solve Reader Problem (Intent):

हमेशा अपने आर्टिकल को अपने User के लिए लिखिए ना कि Search Engine के लिए | आप अपना आर्टिकल जिस बारे में लिख रहे है, कोशिश करे कि यूजर की वो Quarry आपके आर्टिकल पर आने के बाद Solve हो जाये | आपके आर्टिकल में High Keyword Density नहीं होनी चाहिए | Google को ये बिलकुल पसंद नहीं है कि आप अपने आर्टिकल में Keyword Stuffing करे |

अगर आपका आर्टिकल 1000 Words का है तो 4-5 बार ही आप अपने Keyword को अपने आर्टिकल में Use कीजिए | इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि Rank Math Plugin या Yoast SEO Plugin बोल रहे है कि आप अपने Keyword को अपने आर्टिकल में और ज्यादा Use कीजिए | हेमशा याद रखिये कि किसी आर्टिकल या वेबसाइट को रैंक करने के लिए Google अपनी Ranking Algorithm का use करता है, वो इन SEO Plugins के Green Score को नहीं देखता है |

जितने भी लोग ये सारी गलतिया कर रहे कि वे Search Engine के लिए सारी चीजे Optimize कर रहे है, गूगल अपनी इस नयी अपडेट Helpful Content Update के अंतर्गत इन सभी websites को penalize करने वाला है | अब गूगल आपके पेज की रैंक SEO Score से नहीं बल्कि User Satisfaction के आधार पर करेगा | अगर आपका यूजर आपके कंटेंट से satisfy है तो आपकी Ranking और Authority दोनों बढ़ेगी |

Intent से हमारा अभिप्राय है कि जो भी Keyword या Quarry आपने अपने आर्टिकल के टाइटल में इस्तेमाल की है, उसकी सम्पूर्ण जानकरी आपके उस आर्टिकल में होनी चाहिए यानि आपका आर्टिकल Intent Based होना चाहिए | आपको अपने यूजर को गुमराह नहीं करना है, जो आपके टाइटल में दिखाया गया है आपका आर्टिकल भी उसी से रिलेटेड होना चाहिए |

Sentences And Paragraphs:

अपने आर्टिकल में सदैव छोटे Sentences और छोटे Paragraphs का इस्तेमाल करे | जितनी भी बड़ी websites है वे सभी अपने आर्टिकल्स में Short Paragraphs का use करती है सिर्फ इसलिए ताकि यूजर को आपका आर्टिकल पढने में Comfortable हो | Short Paragraphs वाले आर्टिकल, Meaningful आर्टिकल और जिन आर्टिकल्स में Extra कुछ भी ना हो, ऐसे आर्टिकल गूगल और यूजर दोनों को पसंद होते है |

कोई मतलब नहीं है कि किसी Keyword के लिए पहले पेज पर रैंक कर रही वेबसाइट ने 4000  Word का आर्टिकल लिखा है तो आपको 5000 Word का आर्टिकल लिखने की आवश्यकता है | आप एक Meaningful और Intent Based, 2000 Words के आर्टिकल से भी उसे Outrank कर सकते हो |

Use List And Tables:

अपने आर्टिकल के बीच में Tables और Lists का प्रयोग जरुर करे | List And Tables, search engine में बहुत अच्छा Preview देते है और ये आपके आर्टिकल के बहुत सारे Snippets को Enable कर देता है | इसके बारे में हम आगे Advance वाले सेक्शन में और बात करेंगे |

Show Table of Contents:

अपनी वेबसाइट में एक Table of Contents प्लगइन जरुर इनस्टॉल करे | ये आपके आर्टिकल में सबसे उपर आपकी सभी Headings को एक साथ दिखा देता है जिससे यूजर direct जिस Heading को पढना चाहे वो उस पर क्लिक करके सीधा उसी Heading के सेक्शन तक पहुँच सकता है | इसके search engine में भी काफी फायदे है जिसके बारे में हम आगे Advance सेक्शन में बात करने वाले है |

अभी के लिए आप सिर्फ इतना ध्यान रखे कि आपको एक Table of Contents का प्लगइन इनस्टॉल कर लेना है, जैसे – Lucky WP नामक प्लगइन को आप इनस्टॉल कर सकते हो |

lucky wp table of content plugin Preview
Table Of Content Preview

Use Images In Your Article:

How to write SEO friendly article in hindi नामक इस आर्टिकल के अनुसार आपको अपने आर्टिकल को SEO Friendly बनाने के लिए सिर्फ Text का use नहीं करना है बल्कि आपको अपने आर्टिकल में Images भी इस्तेमाल करना है | अपने आर्टिकल में आप अच्छे से Optimized और Resized Images का प्रयोग करे | अपनी वेबसाइट में आप जो इमेज use करे वो आपकी अपनी इमेज होनी चाहिए यानी आपको उसे कही से डाउनलोड नहीं करना है |

इसके लिए आपको अनेको ऐसी websites मिल जाएगी जहाँ से आप Copyright Free Images डाउनलोड कर सकते हो और उसे अपनी वेबसाइट में Insert कर सकते हो | अगर आपको आपकी काम की इमेज इन Copyright Free Websites पर नहीं मिलती है तो आप उसे कही से भी डाउनलोड करके और उसमे अपनी Creativity का इस्तेमाल करके उसे use कर सकते हो लेकिन डायरेक्ट कही से डाउनलोड करके आप उसे use ना करे और अगर वो इमेज Creativity के लायक नहीं है तो आप उस इमेज के निचे Image Source डाल सकते हो | इससे आपको Copyright Issue नही आएगा |

दूसरा आप अपनी वेबसाइट में Images को Webp फॉर्मेट में use करे | Webp फॉर्मेट बिना आपकी इमेजेज की quality को घटाये उनका साइज़ काफी हद तक कम कर देता है जिससे वे फ़ास्ट लोड होती है और इससे आपकी वेबसाइट की speed Increase होती है | इसके लिए मार्किट में काफी सारे Paid Plugin मौजूद है लेकिन Optimole-Wp जैसे फ्री प्लगइन के साथ भी आप अपनी Images को बेहतर ढंग से Optimize कर सकते हो और ये प्लगइन Webp से भी छोटे साइज़ Avif में आपकी इमेजेज को कन्वर्ट करता है जो शायद ही कोई प्लगइन आपको ये आप्शन फ्री में Provide करता हो |

जब आप अपने आर्टिकल में इमेज को अपलोड करते हो ये प्लगइन उसी वक्त आपकी इमेज के साइज़ को reduce कर देता है और जो इमेज आप पहले अपलोड कर चुके हो आप उन्हें भी एक साथ ऑप्टिमाइज़ कर सकते हो |

Image SEO:                              

इसके बाद आपको अपने आर्टिकल को SEO Friendly बनाने के लिए आपको अपनी इमेज का SEO करना होगा | इसके अन्दर, आप अपने आर्टिकल में जितनी भी Images को use कर रहे है उनके निचे उनका Caption अवश्य लिखे | Caption में आप उस इमेज के बारे में लिखिए कि वो इमेज किस बारे में है और यहाँ पर आप उस इमेज का Source भी डाल सकते है |

अब आपको अपनी Images का Alt Text या Alt Attribute भी डालना होगा | Alt Text में आपको अपनी उस इमेज से रिलेटेड text ही डालना है जो उस इमेज से करता हो | बहुत सारे लोगो और खुद SEO Tools का कहना है कि आप अपने इमेज के Alt Text में अपने Main Keyword को डाले, लेकिन आपको ऐसा नहीं करना है | अगर आपकी इमेज के साथ आपका Main Keyword मेल खाता है तो आप उसे बेझिझक इस्तेमाल कर सकते है | लेकिन आपको बिना किसी Meaning के हर इमेज के Alt Text में अपने Seed  Keyword को नहीं डालना है |

Internal & External Linking and Rel Attributes:

Internal Linking:

अपने आर्टिकल में आप जहाँ जरुरत हो वहां पर अपने दुसरे आर्टिकल्स या Posts को लिंक जरुर करे | जब आप अपने ही आर्टिकल में अपनी ही वेबसाइट के किसी दुसरे आर्टिकल को किसी keyword या text पर लिंक देते है तो इसे Internal Linking कहा जाता है |

गूगल जब किसी वेबसाइट के किसी पेज को Crawl करता है तो वो उसमे मौजूद सभी Links को भी Crawl करता है और जब आप अपने आर्टिकल में अपने ही आर्टिकल्स को लिंक करते है तो गूगल आपके उन आर्टिकल्स को भी दोबारा क्रॉल करता है जिससे उनके रैंक होने के Chance बढ़ जाते है | ऐसा करके आप अपने दुसरे आर्टिकल्स को भी जिंदा रख सकते हो |

External Linking:

मान लीजिये आपने अपने आर्टिकल में किसी ऐसी चीज के बारे में लिखा जिसकी इनफार्मेशन आपकी वेबसाइट पर मौजूद नहीं है | ऐसे में आप उस particular keyword को किसी ऐसी दूसरी वेबसाइट से लिंक कर दीजिये जहाँ पर उसके बारे में सम्पूर्ण इनफार्मेशन उपलब्ध हो | इसी प्रक्रिया को हम External Linking कहते है |

Rel. Attribute:

आप जिस दूसरी वेबसाइट को अपने आर्टिकल से लिंक कर रहे है, अगर आपको उसकी वेबसाइट की quality पर भरोसा नहीं है तो आप उसे No Follow Attribute दे सकते हो, जिससे आपकी वेबसाइट का Link Juice उसकी वेबसाइटपर पास नहीं होगा लेकिन अगर आप किसी Trusted वेबसाइट को लिंक दे रहे है तो आप उसे Do Follow link ही दे |

Self Linking:

इस प्रोसेस के बारे में आपको शायद कही पर भी नहीं बताया गया होगा क्यूंकि इसके बारे मे बहुत कम ही लोग जानते है |

Self Linking से हमारा अभिप्राय है कि आप अपना जो भी आर्टिकल लिख रहे है उसमे आपका एक Main Keyword तो जरुर होगा और ये भी तय है कि आप उस Main Keyword को अपने उस आर्टिकल में भी कही न कही जरुर use करेंगे तो जहाँ पर भी आप अपने इस Main Keyword को अपने आर्टिकल में use करे उसको अपने इसी आर्टिकल के Permalink या URL से लिंक कर दो |

अब गूगल जब आपके इस पेज पर आएगा तो वो इसमें मौजूद सभी Links को Crawl करेगा और जब वो इस keyword पर आपके उसी आर्टिकल के लिंक को क्रॉल करेगा तो गूगल Reflect होकर आपके उसी पेज पर दोबारा आ जायेगा | इससे आपका 2 Crawl Enable हो जाता है | इसलिए आप अपने पेज को Re-crawl करवाने के लिए Self के keyword को Self के Post से लिंक जरुर करे |

Use FAQ Schema:

अगर आप अपनी वेबसाइट में Rank Math SEO प्लगइन को Use करते है तो आप अपने आर्टिकल में FAQ Schema बड़ी आसानी से ऐड कर सकते है | आप अपने आर्टिकल्स के End में कुछ FAQ Questions जरुर ऐड करे जो आपके उस आर्टिकल से सम्बंधित हो | अगर आप किसी और SEO Plugin का use करते है जिसमे ये फीचर आपको नहीं मिल रहा है तो आप इसके लिए अलग से किसी प्लगइन को इनस्टॉल कर सकते है |

FAQ feature by rank math SEO Plugin frequently asked question
FAQ By Rank Math SEO Plugin

अगर कोई गूगल में उस Question को search करता है जो आपने अपने FAQ में डाला है तो हो सकता है आपकी वेबसाइट उस यूजर को Search Results में बाहर ही दिखाई देने लगे |

Add Last Word Or My Opinion Section:

जब आपका आर्टिकल complete हो जाए तो अंत में आप अपना एक Last Word या My Opinion का सेक्शन जरुर ऐड करे | इसमें आप अपने आर्टिकल के बारे में अपना View जरुर दे कि आपने अपने आर्टिकल में जो भी इनफार्मेशन दी है वो कितनी Trusted है और उसके क्या फायदे और नुकसान है | इससे आपका यूजर आपके साथ और आपकी वेबसाइट के साथ अच्छे से कनेक्ट हो पायेगा |

Search Engine Optimization (SEO) Meta:                              

Meta Title:

अपने आर्टिकल के Meta Title में Power Words का प्रयोग करे | अपने Meta Title को Meaning Ful रखिये | कई बार लोग अपने आर्टिकल के टाइटल को ही अपने Meta Title में Add कर देते है आपको ऐसा नहीं करना है बल्कि आपको अपनी Creativity से अपने Meta Title को और ज्यादा Catchy बनाना है |

Meta Title को short ही रखे बल्कि आपका SEO Plugin आपके Meta Title का जब तक Green Score दिखा रहा है उतनी ही आप अपने Meta Title की Length रखे |

SEO Meta title and description feature by Rank math SEO Plugin
SEO Meta by Rank Math
Meta Description:

अपने Meta Description को भी आप short और simple ही रखे और इसमें आप अपने Main Keyword  को जरुर Add करे | इसको भी आप थोडा Clickable जरुर बनाये क्यूंकि यूजर को search results में सिर्फ आपका Title और Description ही दिखाई देता है | इसलिए आप इन्हें Meaningful जरुर रखे |

Feature Image:

अपने आर्टिकल का एक Featured Image भी आप जरुर बनाये क्यूंकि कभी-कभी search results में आपके Title और Description के साथ आपकी Feature Image भी दिखाई देती है | इसे आप अपने आर्टिकल का Thumbnail भी बोल सकते है |

 3. Advance Techniques For Better Traffic:

ये पार्ट इस आर्टिकल का सबसे खतरनाक पार्ट होने वाला है क्यूंकि इसमें आपको सारी जानकारी इन सबसे बिलकुल अलग टाइप की मिलने वाली है और इस पार्ट से आप बहुत कुछ नया सीखोगे |

चलिए अब हम अपने ट्रैफिक को बढाने और अपने how to write seo friendly article के इस concept को आगे बढाने की कुछ Advance Techniques देखते है –

Add More Content After Publishing:

इस Heading का अर्थ है कि आपको अपना पूरा आर्टिकल एक ही दिन में Publish नहीं करना है | आपको अपने आर्टिकल को टुकड़ो में पब्लिश करना है जिससे आप अपने आर्टिकल को आसानी से Update भी कर सकते हो | आप हर 7 से 10 दिन में अपने आर्टिकल में कुछ Add कीजिए, जैसे – उसमे आप कुछ Paragraphs ऐड कीजिए,  कोई नयी Heading ऐड कीजिए या उसमे कोई Video ऐड कीजिए आदि |

जब आप ऐसा करते है तो गूगल जब भी आपके आर्टिकल को क्रॉल करने आता है तो उसे हर बार आपके आर्टिकल पर कुछ नया देखने को मिलता है, उसे हर बार नयी इनफार्मेशन देखने को मिलती है और ये चीज गूगल को बहुत पसंद है | आपने भी देखा होगा कि बहुत सारे Pro Bloggers बोलते है कि अपने आर्टिकल को बीच-बीच में Update करते रहिये तो इस  प्रक्रिया से आप हर बार अपने आर्टिकल को अपडेट ही कर रहे है, सिर्फ फर्क ये है कि इसमें आप अपनी Techniques का इस्तेमाल कर रहे है |

जरा सोचिये, कोई वेबसाइट अपने आर्टिकल को एक बार डालती है और उसे वो साल भर में कभी अपडेट ही नहीं करती है और एक अलग साईट है जो हर हफ्ते अपने आर्टिकल में कुछ न कुछ नया Add कर रहा है | मैं आपको इसका एक तरीका बताता हु, जब आपके पास आर्टिकल का पूरा Structure तैयार हो जाये तो उसे पूरा पब्लिश ना करे उसमे से कुछ Headings को आप रोक ले जिनके बगैर भी आपके आर्टिकल का काम चल सकता है या आप हर बार अपने आर्टिकल में दो FAQ Questions ऐड कर सकते है |

अगर आप इस Technique का इस्तेमाल करते है तो आपको जरुर अच्छे results देखने को मिलेंगे |

Install Table Of Contents For Snippets:

जैसा कि उपर हम इसके बारे में बात कर चुके है कि Lucky Wp नामक प्लगइन की मदद से आप अपनी वेबसाइट में Table Of Contents को Enable कर सकते हो | इसका एक सबसे बड़ा फायदा ये है कि जब आप इस प्लगइन को अपनी वेबसाइट में इनस्टॉल करते है तो आपके ये Headings सर्च रिजल्ट में Snippets के रूप में दिखाई देते है जिससे यूजर वही से इस क्लिक करके सीधे आपके आर्टिकल के उसी हिस्से में पहुच जायेगा |

इससे आपकी वेबसाइट पर किसी यूजर के क्लिक करने के chances बढ़ जाते है क्यूंकि उसे आपकी वेबसाइट की Headings बाहर ही दिखाई दे जाती है जिससे वो आपके आर्टिकल का Intent समझ जाता है |

Text Snippets:

जब आप अपना आर्टिकल लिखते है और उसमे आप कोई ऐसी Heading ऐड करते है जिसे आप एक Question की तरह भी लिख सकते है जैसे अगर आप अपने आर्टिकल में No follow Links नामक कोई Heading ऐड करने वाले है तो उसे आप इस तरह से लिखे – What is No Follow Links. और इस Heading का एक short answer आप 50-60 Words में दे ही दे | इसके बाद अप एक और Sub Heading बनाकर उसे Deeply Explain कर सकते है |

जब कोई यूजर आपके इस keyword को सर्च इंजन में search करता है जिसे आपने अपनी Heading बनाया है तो उसे आपका ये सेक्शन यानि आपकी Heading और आपका Answer बाहर search results में ही दिखाई दे जाता है जिसे Text Snippets कहते है |

Test Snippets in Google search result
Text Snippets

अगर आप इसकी Length 50-60 वर्ड्स से ज्यादा रखते हो तो शायद गूगल इसे बाहर search results में ना दिखा पाए इसलिए इस पर अपना फोकस जरुर करे | इससे एक फायदा ये भी होता है कि जब आपके आर्टिकल का Text Snippets सर्च रिजल्ट्स में दिखाई देता है तो आपकी वेबसाइट ज्यादा Space कवर करती है जिससे यूजर के आपकी वेबसाइट पर क्लिक करने की Probability बढ़ जाती है |

List And Table Snippets:

अक्सर आपने देखा होगा कि जब आप search engine में कुछ search करते है तो आपको कुछ List ता Table बाहर search results में ही दिखाई दे जाती है | अगर आप अपने आर्टिकल में List या Table का प्रयोग करते है तो जब कोई उस लिस्ट से रिलेटेड Keyword गूगल में search करता है तो वहां पर आपकी वेबसाइट भी List Snippets या Table Snippets में दिखाई दे सकती है |

इसलिए अपने आर्टिकल में जिन Headings को आप Lists या Tables में Explain कर सकते है उन्हें आप जरुर Define करे, इससे आपका Article और ज्यादा SEO Friendly होता है |

Benefits Of Video Snippets:

आपको अपने आर्टिकल में अपने टॉपिक से रिलेटेड कोई न कोई Video जरुर Embed करना है | अगर आप अपने आप Video Shoot करके कोई विडियो अपने आर्टिकल में डाल सकते है तो जरुर डाले और अगर आपका कोई You Tube चैनल नहीं या आप आप Video Creator नहीं है तो आप अपने आर्टिकल से रिलेटेड किसी और सज्जन का विडियो उसकी permission लेकर अपने आर्टिकल में use कर सकते है |

अपने आर्टिकल में Video डालने के दो बड़े फायदे है – एक तो आपका वो विडियो यूजर के रिलेटेड Keyword search करने पर बाहर search रिजल्ट में दिखाई देता है जिससे उस पर क्लिक करने के chances ज्यादा हो जाते है |

दूसरा इसका फायदा ये कि अगर यूजर आपके आर्टिकल पर आने के बाद आपके Video को देखता है तो अगर 15 मिनट का विडियो 6 मिनट भी ही देखता है तो इससे आपका Bounce Rate बहुत अच्छा Maintain होता है | इससे आपको रैंकिंग में बहुत ज्यादा मदद मिल सकती है | ये छोटी-छोटी चीजे ही आपकी Ranking को Boost कर सकती है क्यूंकि Google अब इतना स्मार्ट हो चूका है कि आप किसी टूल या एप्लीकेशन की मदद से अपनी वेबसाइट को रैंक कभी भी नहीं करवा सकते हो |

Using Schema Generator With Rank Math:

अगर आप अपनी वेबसाइट में Rank Math SEO प्लगइन का इस्तेमाल कर रहे है तो आप अपने आर्टिकल्स के लिए Schema Generate कर सकते है | अगर आपके पास Rank Math Pro है तो आपको इसमें काफी सारे Options मिल जाते है लेकिन अगर आप इसके फ्री Plan को भी Use कर रहे हो तो तो भी आपको इसमें अनेको Type के Schema Generate करने का आप्शन मिलता है |

Schema Markup से आपको काफी फायदे होते है | इससे Google के लिए आपके आर्टिकल को समझना काफी हद तक आसान हो जाता है | साथ ही इसे use करने से भी आपका आर्टिकल Snippets के रूप में Google Search में ही दिखने लगता है जिससे काफी सारी इनफार्मेशन यूजर को आपके search result से ही मिल जाती है |

अगर आपकी वेबसाइट किसी और Niche से रिलेटेड है लेकिन आपका कोई आर्टिकल या पेज किसी अन्य topic बार आधारित है तो आप Rank Math Plugin के साथ सिर्फ उस आर्टिकल के लिए अलग टाइप का Schema Generate कर सकते हो जिस भी category से वो आर्टिकल Relate करता हो | इससे गूगल आपके उस आर्टिकल को आसानी से समझ सकता है |

Last Word:

दोस्तों उम्मीद है आपको इस आर्टिकल से कुछ नया सिखने को मिला होगा | सब New bloggers ये जाने के इच्छुक रहते है कि How to write SEO friendly article in hindi और वे इसके लिए उल्टे-सीधे Videos देखते है, AI Tools का इस्तेमाल करते है जिससे Google की नज़र में वे अपनी वेबसाइट की quality खराब कर लेते है |

हमेशा याद रखिये कि SEO कोई जादू नहीं है क्यूंकि ये आपको Experience से ही आएगा | इसलिए आप अपनी वेबसाइट पर नयी-नयी चीजे Try करते रहे | अपने आर्टिकल्स को लिखते समय एक बाद दिमाग ने जरुर रखे कि हमे User के लिए लिखना है search engine के लिए नहीं |

इसके बारे में हमने शुरुआत में भी बात की थी कि अपने आर्टिकल को UFO ( User Friendly Optimization) Based बनाईये क्यूंकि जो websites सिर्फ Google Adsense के लिए बनाई जा रही है गूगल उनके प्रति काफी strict हो चूका है | आपको अपने यूजर की हेल्प करनी है और जिसे Intent पर यूजर आपके आर्टिकल पर आया है  उसका वो Intent आपके आर्टिकल पर आने के बाद पूरा हो जाना चाहिए और अपने आर्टिकल में Keyword Stuffing ना करे यानी कि जहाँ जरुरत हो वाही पर अपना Keyword डाले |

FAQ :

Why SEO friendly content is important?

आप अपने आर्टिकल को SEO Friendly बनाकर अपने यूजर और Search Engine दोनों को अपनी और आकर्षित करते हो | लेकिन गूगल अब अपने लिए किसी प्रकार के SEO की Requirement नहीं करता है अपितु आपको अपने कंटेंट को अपने यूजर के लिए Optimize करना है |

Does external linking increase the SEO score?

हाँ, अगर आप अपने आर्टिकल में external linking करते हो तो आपका SEO Score बढ़ता है क्यूंकि इससे आप अपने यूजर को उसकी प्रॉब्लम से रिलेटेड पूरी इनफार्मेशन दे रहे हो, अब वो चाहे आप उसे दूसरी वेबसाइट पर भेज कर ही क्यों ना दे |

आर्टिकल में Main Keyword को कितनी बार Use करना चाहिए ?

अपने आर्टिकल में Natural तरीके से अपने Keyword का Use करे, जहाँ आपके Seed Keyword की वास्तव में आवश्यकता हो वही पर उसे प्रयोग करे | जहाँ पर भी आप आपने Main Keyword को use करे उसका वहां कोई न कोई अर्थ होना चाहिए, इसके लिए आपको चाहे अपने Keyword को आर्टिकल में तीन ही बार Use क्यों ना करना पड़े !

Hello friends, I am the founder of Mahakal-Blog. Blogging is my profession and my interest is in getting information about new things and sharing it with people through blogging. Our motive behind creating this blog is that we can provide you important information related to blogging and digital marketing in very simple language Hindi.

Share For Support:

Leave a Comment